Sunday, November 05, 2017

तुम्हारे दीदार से मुक़म्मल होती थी वो कवितायेँ 
जो आज कल अधूरी-अधूरी ही ख़त्म हो जाती हैं.

Happy Birthday

साल दर साल 
वक़्त चुपके से आकर 
अपने हँसिया से 
काट जाता है 
उम्र का एक और साल; 
और पीछे छोड़ जाता है
सर-कटा नंगा सा ठूँठ|

Sunday, August 13, 2017

ये "हम लोग" वाले लोग जब inert या blind हो जाते हैं तो स्थिति बहुत डरावनी हो जाती है|

एक और 15 अगस्त आने वाला है| बहुत कुछ वैसा ही होगा, जैसा हर साल होता है| Facebook और twitter पर profile picture बदल दिए जाएंगे; whatsapp पर तिरंगे वाले GIF के साथ बहुत सारे देशभक्ति वाले forwards आएंगे; TV के किसी कोने में प्रलय नाथ गेंडास्वामी और ब्रिगेडियर सूर्यदेव सिंह लड़ते दिखेंगे; स्कूलों और दफ़्तरों में जोश से भरे भाषण दिए जाएंगे; गांधी, नेहरू, पटेल, भगत, आज़ाद को याद किया जाएगा; बॉर्डर पर खड़े सैनिकों के लिए emotions से भरे विचार लिखे जाएंगे और अंततः देश की बदहाली के लिए नेताओं, बाबुओं और सरकारी कर्मचारियों को कोसा जाएगा| इन्हे हर साल कोसा जाता है, और क्यों ना कोसा जाए -- अपने लालच को पूरा करने के लिए इन्होने आम जनता को इतना निचोड़ दिया है कि अब dry cleaning भी हमारी सिलवटों को हटा नहीं पाते| 

वैसे तो भ्रष्टाचार और बदहाली के लिए नेताओं, बाबुओं और सरकारी कर्मचारियों को कोसना हमारा staple diet बन चूका है, लेकिन एक culprit है, जो हमेशा बच जाता है -- जो अपने फ़ायदे के लिए इन बाबुओं को पैसा खिलाता है, लेकिन बाद में corruption का राग रोता है; जो सड़कों पर चलते समय केले का छिलका फेक आता है, लेकिन गन्दगी पर municpial corporation से उसकी ज़िम्मेदारी पूछता है; जो घूस मांगने के लिए किसी भी हद्द तक गिर जाता है, लेकिन पैसों की कमी से पढाई ना कर पाने वाले बच्चों पर दुःख जताता है; जो ट्रैफिक में पांच मिनट फंस जाने पर हॉर्न देकर लोगों का कान फाड़ देता है, लेकिन उसे देश में अनुशाषन की कमी दिखती है|  

जी, आप बिलकुल सही पकड़े हैं| ये Constitution के preamble में लिखे गए "We the people of India" वाले वही लोग हैं, जो दशकों से बस दूसरों पर ऊँगली उठाते आये हैं, लेकिन अपने रिश्तेदारों की ऊपरी कमाई को बहुत शान से बताते हैं|  ये संविधान के प्रस्तावना में बताये गए "हम, भारत के लोग" वाले वही लोग हैं, जिन्हे दहेज लेने वालों पर गुस्सा आता है, लेकिन जैसे ही उनका बेटा IAS बनता है, दहेज की बोली पचास लाख पहुंच जाती है| ये "हम लोग" हैं|

पिछले सत्तर सालों में हम लोगों ने सड़क और पुल कम बनाये हैं, लेकिन वाद और ism बहुत ज्यादा बना दिया है -- गाँधीवाद, समाजवाद, लोहियावाद, जातिवाद, Right Wing, Left Wing, Center Right, Center Left, Nehruvian, Savarkarian...और मुश्किल ये है कि इतना सारा हमसे हज़म भी नहीं हो पाता इसलिए हम अलबला जाते हैं| जब भी कोई tragedy हो जाए, सबसे पहले हम ये देखते हैं कि ये किस "ism" में फिट होता है, उसके बाद ये खोजते हैं कि इस "ism" का जिम्मा किसपर थोपा जाए ताकि मेरा वाला "ism" बच जाए| इस "ism" वाली लड़ाई में tragedy जीत जाती है और हम हार जाते हैं, लेकिन हम इतने अभागे हैं कि उसे भी हम आँख बंद कर अपना जीत मान लेते हैं| ये "हम लोग" वाले लोग युद्ध में लड़ने वाले वो प्यादे हैं जिन्हे विजय के गंतव्य और युद्ध की दिशा से कोई मतलब नहीं| इन्हे बस इससे मतलब है कि आप किस side खड़े हैं|   

तीन दिन पहले रांची में एक wrestler की करंट लगने से मौत हो गयी| स्टेडियम की हालत इतनी जर्जर थी कि फोटो से भी आंसू टपक रहे हैं| ख़बर जब फैली तो देश ख़ेमे में बंट गया:

1. एक वर्ग चाहता था कि दोषियों को लटका दिया जाए| ये ऐसा वर्ग है जो हमेशा दोषियों को लटका देना चाहता है, लेकिन जब इनके घरों में बैठे रिश्तेदार सड़कों में सीमेंट की जगह रेत डालकर पैसा बनाते हैं, सरकारी हॉस्पिटल या सरकारी कॉलेज में छुट्टी मार कर प्राइवेट इंस्टिट्यूट चलाते हैं, दफ़्तरों में घूस लेकर घर लौटते हैं तो ये चुप रह जाते हैं| 

2. दूसरे वर्ग ने घटना का पोस्ट-मार्टम राजनीति के औजारों से कर दिया| अपने सुविधा और स्वादानुसार नेहरू को, मोदी को, RSS को, दलितों को, हिन्दुओं को, मुसलमानों को दोषी और पीड़ित बनाकर लाश पर कफ़न पहना दिया  

3. तीसरा वर्ग inert हो चूका है| इतने लोग तो मरते ही हैं, एक और मौत हो गयी तो हो गयी| जब सरकार और सिस्टम बदलने से भी कुछ नहीं होता, तो बहुत सारे लोग inert होने लगते हैं| 

स्टेडियम का क्या हुआ किसी को नहीं मालूम| कितने खिलाड़ियों का मनोबल टूटा इससे कोई मतलब नहीं| हाँ, लेकिन हमने इसका जिम्मा किसी के सर थोप दिया| 

गोरखपुर में बच्चों की मौत पर भी ऐसा ही कुछ हुआ| कश्मीर में भी ऐसा हो रहा है|  

बारिश में सड़के पिघल जाती हैं और लोग गड्ढ़ों में डूब कर मर जाते हैं लेकिन हम अपनी political party पर ऊँगली उठाने वालों को ट्रोल कर के सारा दर्द मिटा लेते हैं ; जब व्यापम में, बिहार में, केरल में और बंगाल में whistle blowers रातो रात गायब हो जाते हैं, हम अपने "ism" को सही ठहराने के लिए आँखें बंद कर लेते हैं;  कोई anti-national को खोज लेता है, कोई संघी मोदी भक्त को, तो कोई आपटर्ड को| कुछ नहीं मिलता है तो हम राहुल गाँधी पर ही चुटकुला बना लेते हैं| समस्या वही की वही रह जाती है| 

ये "हम लोग" वाले लोग जब inert या blind हो जाते हैं तो स्थिति बहुत डरावनी हो जाती है| हम अभी उसी स्थिति से गुज़र रहे हैं| 

कुछ लोग कहते हैं "थाली का बैगन मत बनो, साइड लो"| "साइड लो"? किसका? किसके लिए? भाई polygon हो क्या जो साइड लेकर ज़िन्दगी गुज़ार दोगे? रात को नींद कैसे आ जाती है?

खैर, पंद्रह अगस्त आ रहा है| whatapp forward कीजिये, दिल खोलकर दूसरों को कोसिये और जानी दोपहर में किसी चैनल पर तिरंगा तो आएगा ही| 

Sunday, June 11, 2017

इश्क़ मुहब्बत वाला लौंडा जब झंडा लेकर घूमने लगा

2012 के मई की चिलचिलाती गर्मी चीटियों की तरह शरीर पर चुभ रही थी| ज़मीन एक एक क़तरा पानी के लिए ललचाये निग़ाहों से आसमान की तरफ़ ताक रहा था, लेकिन बादल भी जिद्दी और बदमिज़ाज महबूबा की तरह रूठ कर यूँ कहीं दूर चले गए थे कि दूरबीन से ढूंढने पर भी नहीं दिखते| गर्म सांस छोड़ती हुई सड़कों के किनारे लगे छोटे छोटे पौधे झुलस कर अस्पताल से निकले गरीब बूढ़े मरीजों की तरह अपने जीवन और मृत्यु पर विचार कर रहे थें|

पटना कॉलेज में अभी-अभी इतिहास का एक लेक्चर ख़त्म हुआ था| लेक्चर-रूम में जिराफ़ के गर्दन की तरह चारो ओर लटके पंखों से "घूं-घूं" की आवाज़ के साथ हवा भी आती थी लेकिन तापमान इतना ज्यादा था कि उससे कोई अंतर नहीं पड़ता| लोग कहते पटना हैं कि कॉलेज की ये शाही इमारतें अंग्रेजो ने बनवायी थी लेकिन लाल पीली दीवारों से फ़िसलती और टपकती पपड़ियों को देख कर ऐसा लगता था कि ये दीवारें बौद्ध काल में बनायीं गयी थीं|

कॉलेज के सामने एक बड़ा सा मैदान है जिसमे अगल बगल के कई सारे बच्चे क्रिकेट खेलने के बहाने ग़रीबी और लाचारी के दर्द को थोड़ी देर तक ढक लेते थे| मैदान के एक छोर पर अकेले बैठा हुआ विहान मैदान में ताक रहा था| विहान से यदि कोई पूछता कि मैच में क्या हो रहा है तो शायद वो बता नहीं पाता, शायद उसे अहसास भी नहीं होगा कि कोई मैच चल रहा है, लेकिन पिछले एक घंटे से बैठकर वो मैदान में खेलते हुए बच्चों की ओर देख रहा था| गर्मी थमने का नाम नहीं ले रही थी और ऊपर से कॉलेज के कई सारे बोरिंग क्लॉस| विहान देख तो मैदान की तरफ़ रहा था लेकिन उसके दिमाग में आने वाले कल और बीते हुए कल की तस्वीरें खटाखट घूम रही थीं|

ये पहली बार नहीं था जब विहान यूँ अकेला बैठ कर अपने बारे में सोच रहा था| महीने में एक दो बार अपने दोस्तों से दूर एकांत में एक दो घंटे बैठ कर विहान कुछ अजीब अजीब विषयों पर जैसे कि "ग़रीबी का क्या अंत है", "क्या दूसरे ग्रहों पर जीवन है", "इतिहास वाले प्रोफ़ेसर को नौकरी में किस चीज़ से तसल्ली मिलती होगी", "अल्ताफ राजा की गर्लफ्रेंड होगी क्या" सोच लेता था और फिर भूल जाता था| ये एक दो घंटे उसके मशीन की तरह चलती ज़िन्दगी में lubricant जैसा काम करती थी|

"भैया, एक कोला वाला आइसक्रीम देना", विहान के पीछे खड़े आइसक्रीम वाले से एक लड़की ने पुछा

विहान पीछे पलट कर देखा और तीस सेकंड के अंदर उसे लड़की से प्यार हो गया|  उसने लड़की की तरफ़ देखा, लड़की ने उसकी तरफ़ देखा; विहान के लिए मौसम का मिज़ाज सुधर गया और तापमान पंद्रह डिग्री कम हो गया| ये सब पांच मिनट के लिए हुआ और फिर ख़त्म हो गया| लड़की गेट नंबर तीन से अशोक राजपथ की तरफ़ निकल गयी| विहान ने ना तो उसका नाम पूछा, ना मोबाइल नंबर और ना ही ये पूछा कि किस कोचिंग सेंटर या कॉलेज में वो पढ़ रही है| दो दिन तक विहान का मन किसी चीज़ में नहीं लगा| विहान कॉलेज तो जाता था लेकिंग लेक्चर हॉल की जगह मैदान के उस कोने में बैठता था जहाँ उसे वो लड़की पहली बार दिखी थी| शाम को घर जाकर वो "चमकते चाँद को टूटा हुआ तारा बना डाला" सुनता था तो कभी कुमार सानू के साजन के गाने सुनता था|

ये भी पहली बार नहीं था कि विहान को इश्क़-मुहब्बत-कोकाकोला हुआ था| विहान को हर कुछ महीनों में प्यार हो जाता था| फिर वो रातों को ग़ुलाम अली, जगजीत सिंह और कुमार सानू के गाने सुनता, शायरी सुनता, गाने गाता और कुछ दिनों बाद सब कुछ भूल जाता|

असल में विहान एक सामान्य लड़का था| उसमे कोई सुपरपावर नहीं था ना ही उसके जन्म के समय ज्योतिषियों ने बोला था कि ये लड़का बवाल मचाएगा| विहान एक खुशमिज़ाज क़िस्म का लड़का था| विहान दोस्तों के साथ बैठ कर हंसी मज़ाक करता था, उसके दिमाग में उल जलूल प्रश्न आते थें, उसे गुस्सा आता था, उसे परेशानी होती थी, उसे प्यार होता था| कॉलेज, मोहल्ले और राज्य में नेताओं को कई बार उल्लू बनाते हुए देखने के बाद राजनीति में उसकी दिलचस्पी ख़त्म हो गयी थी| विहान को बुरी ख़बरें पढ़कर बुरा लगता था, अच्छी ख़बर पढ़कर अच्छा लगता था| विहान एक सामान्य लड़का था|

2017 की मई में गर्मी पहले से भी ज्यादा बढ़ गयी है, लेकिन अब विहान को इश्क़-मुहब्बत-कोकाकोला रास नहीं आता| अब विहान जैसे लड़कों को शायरी और ग़ज़लें पसंद नहीं आती| उनके तकियों के नीचे ग़ालिब और फैज़ की शायरी नहीं होती| वो अकेले  बैठते तो हैं, लेकिन मोबाइल के updates के साथ| सब के सर पर मुहर लगा दिया गया है| अलग अलग पार्टियों और अलग अलग वादों का| कोई राइट विंग है, कोई अलगाववादी है, कोई विराट हिंदू है, कोई आपटर्ड, कोई जिहादी एंटी नेशनल, कोई मोडिटार्ड, कोई संघी, कोई सिकुलर| अब कोई भी सामान्य नहीं है|

लोग कहते हैं कि कोई बड़ा सा युद्ध चल रहा है -- विचालधराओं का युद्ध| इसलिए सब जायज़ है|  इंटरनेट पर चौबीसो घंटे हज़ारो लोग आपके एक शब्द का इंतज़ार करते हैं और आपके कुछ बोलते ही विपक्षी खेमे वाले आपके शब्दों को चीड़ फाड़ करके उसमें से misogyny, bigotry, sickulasim, fanatism, communalism सब निकाल देंगे| आप बस अपना पक्ष पकड़ लीजिये और उसके साथ आँख बंद कर के जुड़ जाइये| अपने पक्ष की गलतियों पर बोलना कमज़ोरी की निशानी होगी और ऐसा करने पर आपको थाली का बैगन घोषित कर दिया जाएगा|

खड़े रहिये, लड़ते रहिये, टीके रहिये| आप एक महायुद्ध का हिस्सा बन चुके हैं जिसका आपको कुछ पता भी नहीं| 

Thursday, April 13, 2017

इतने संस्कार का अचार डालोगे क्या?

आप एक दिन अपनी गाडी लेकर सड़क पर जा रहे हैं; कुछ लोग आकर आपको ताना मारते हैं, कुछ गाली देते हैं और कुछ लोग आपके कार को तोड़ फोड़ देते हैं, बाद में सारा दोष भी आप पर ही थोप दिया जाता है; ये सबकुछ बस इसलिए क्यूंकि उन्हें लगता है कि आपकी गाडी का रंग अच्छा नहीं है| संस्कार के नाम पर अक्सर ऐसा ही बहुत कुछ थोप दिया जाता है| 

एक लड़की जब छोटे कपड़ों में घर से बाहर निकलती है, और सड़क पर चलते हुए लुच्चे लफंगे उसपर कुछ भद्दी टिपण्णी कर दें या कॉलोनी में सूखे पेड़ की तरह खड़खड़ाते बुड्ढे उसको देख कर "हमारे समय में...." वाली उटपटांग बातें शुरू कर दें या दिन रात गॉसिप करने वाली आंटियां नाक-भौं सिकोड़कर उसपर ताना कस दें, तब जानते हैं सबसे ज्यादा गलती किसकी होती है? उस लड़की की, और सबसे ज्यादा नुक्सान किसे होता है? - हमारे संस्कार को| हमारा संस्कार इतना नाज़ुक है कि हर छोटी बात पर बुरा मान जाता है| 

आख़िर ये संस्कार साला आता कहाँ से है? इन्हे बनाता कौन है? इसमें सही ग़लत का पैमाना कौन डालता है? समझना है तो कुछ सामान्य से प्रश्न लोगों से पूछ लीजिये और उत्तर आपको मिल जायेगा| उदाहरण के तौर पर -- लड़कियों का छोटा कपडा पहनना गलत क्यों है?

उत्तर ऐसा मिलेगा:
1. लड़की काम कपडा में घूमेगी और लड़का सब सीटी मारेगा तो अच्छा लगेगा?
2. समाज में रहना है तो कुछ नियम मानना पड़ेगा इसलिए मान लो| 
3. लड़कियां हमारे घर की इज़्ज़त है, उनका ये ग़लत है| 
4. तुम्हारी माँ और बहन जब छोटे कपड़ों में घूमेगी तब पता चलेगा|
5. बच्चों पर इसका क्या असर पड़ेगा|  

मतलब चूकि आप अपने मोहल्ले के आवारा लड़कों और ठरकी बुङ्ढों को संभाल नहीं पाते या आपका "संस्कारी समाज" अपने समाज के मनचलों को संभाल नहीं पाता है इसलिए आप सारा बंधन लड़की पर चिपका दीजिये, उसके पंख काट दीजिये और सीना तान के कहिये कि आप बहुत संस्कारी हैं|  ख़ैर, कई लोगों को तो ये पता भी नहीं होता कि ये संस्कार वाले चोचले सही हैं या गलत| पूछने पर बोलेंगे, "सदियों से ऐसा चला आ रहा है, मेरे आस-पड़ोस वाले भी यही कहते हैं, मेरे फूफा और मौसा भी इसे सही कहते हैं| समाज में रहना है तो मानना पड़ेगा| इसलिए सही है|" 

कुछ लोग कहेंगे कि लड़कियां घर की इज़्ज़त हैं| मतलब लड़के इज़्ज़त नहीं है, इसलिए कच्छा-बनियान पहनकर गली में घूम सकते हैं? और क्या लड़की को घर की इज़्ज़त बनाने से पहले आपने पूछा भी था कि वो इज़्ज़त बनना चाहती हैं या नहीं| किसी को इज़्ज़त बनाकर उसकी सारी ज़िन्दगी पर अपने उम्मीदों का पहाड़ तोड़ना कैसे सही है?

एक कैटेगरी वो वाला होता है जिसे कुछ भी बोलो वो सीधे माँ और बहन पर आ जाता है| जैसे माँ और बहन घर में रखा हुआ कोई object है जिसे जिधर मन किया उधर घुमा लो| मेरी माँ या बहन को जो पहनना है, जो खाना है, जो पीना है ये उनके choice पर होना चाहिए| वो किसी के ग़ुलाम तो नहीं कि उनको क्या पहनना है और क्या नहीं ये कोई और बताये|  

बच्चों पर क्या असर पड़ेगा इसका तो भगवान् मालिक है| ये वही बच्चे हैं जिन्हे शादी के एक दिन पहले तक आप सेक्स की बातें करने पर असंस्कारी मान लेते हैं, और शादी के दिन केसर में दूध डालकर पिलाते हैं और बोलते हैं कि आज ही एक नन्हा सा लल्ला दे दो| 

ऐसा ही फ़्रेमवर्क हर morality वाले argument में घुसेड़ दिया जाता है| लड़की होकर छोटा कपडा पहनो तो संस्कार ख़राब, लड़की होकर ज़ोर से हंसों तो संकर ख़राब, शराब पियो तो संस्कार ख़राब, सिगरेट पियो तो संस्कार ख़राब, शादी के पहले इश्क़ करो तो संस्कार ख़राब, सेक्स करो तो संस्कार ख़राब, सेक्स की बातें करो तो संस्कार ख़राब और कभी कभी तो लड़का होकर लड़की से दोस्ती कर लो तब भी संस्कार ख़राब हो जाता है|

भारतीय जनता पार्टी के उत्तर प्रदेश विजय के बाद अचानक से लोगों का संस्कार उमर कर दिखने लगा है| वैसे तो असंस्कार बहुत सारे लोगों को पहले भी बुरा लगता था लेकिन अब वैसे लोग भी सफ़ाई देने लगे हैं जो पहले ऐसे प्रतिबन्ध को पहले गलत कहते थे| लड़का-लड़की साथ में घूमे तो संस्कार ख़राब हो रहा है, शराब पी ले तो ख़राब हो रहा है|  जो लोग ना सरकार के हैं और ना पुलिस या क़ानून के वो सड़क पर घुमते प्रेमी प्रेमिकाओं का संस्कार ठीक कर रहे हैं| शराब बंदी पर बहस करने पर लोगों का जवाब आ रहा है कि "शराब नहीं पीओगे तो मर तो नहीं जाओगे?"  

ख़ैर सेक्स की आज़ादी पर सोचना तो मूर्खता ही है| गुड़गांव के पॉश कॉलोनियों में लड़का अपने घर में महिला मित्र नहीं बुला सकता| ये इक्कीसवी सदी है और आश्चर्य ये है कि लोगों को इसमें आश्चर्य नहीं होता| उनका संस्कार उफ़न -उफ़न कर बाहर आ जाता है और वो किसी के freedom को कुचलना समाज के संस्कार की उन्नति समझते हैं| 

क्या समाज में संस्कार का मतलब individuality का गला घोंटकर सब को एक नियम पर ढालना होता है? इंसान बगीचा में लगा घास तो नहीं है ना कि कैंची लिया और सब को काट-छांट के एक जैसा बना दिया| सबकी अपनी ज़िन्दगी है, वो भी मात्रा सत्तर-अस्सी साल की|  उसको जीने के लिए भी दूसरों का नियम-क़ायदा मान लो, बस इसलिए क्यूंकि दूसरों को अच्छा लगेगा? इतने संस्कार का अचार डालोगे क्या?

Saturday, April 08, 2017

Jaichand , turncoat, opportunist -- इनमें से आप कौन हैं?

आज से दस पंद्रह साल पहले मुझे राजनीति में बस इतनी दिलचस्पी थी कि मैं quiz competitions के लिए राजनेता और राजनैतिक दलों का नाम याद कर लेता था| शायद उस समय राजनैतिक विचारधारा का ना होना उतना अबोध नहीं माना जाता था, जितना आज के समय में माना जाता है| आज यदि आप राजनैतिक चर्चाओं में सक्रिय किसी व्यक्ति को बोल दें कि आपको राजनीति में कोई दिलचस्पी नहीं, तो आपको बेचारा और ignorant समझ लिया जाएगा| इससे भी मज़ेदार बात ये है कि यदि आपने किसी व्यक्ति के राजनैतिक दृष्टिकोण के विरूद्ध कुछ बोल दिया तो आपकी पूरी कुंडली खोल दी जायेगी| आपने क्या खाया, क्या देखा, क्या सुना, आप किस बात पर हँसे, किस बात पर मुस्कुराएं और किस बात पर रोयें सब का पूरा analysis मिल जाएगा|     

मैं यहाँ कोई moral high ground नहीं लेना चाहता| मैंने भी ख़ूब analysis किया है, मैंने भी कई कुंडलियां खोली हैं; मेरा भी ख़ूब analysis हुआ है, मेरी भी कई कुंडलियां खुली हैं| राजनीति के बाज़ार में कभी आप शिकारी होते हैं, तो कभी शिकार| ये खेल चलता रहता है| हालाँकि ये समझना ज़रूरी है कि इस पूरे उठा-पटक में आपने क्या पाया और क्या गंवाया| 

चार पांच साल तक लिखने, पढ़ने, बात करने और हल्ला मचाने के बाद दो चीज़ें जो मुझे समझ आयी हैं वो ये है कि (a) हर किस्म की व्यक्तिगत आज़ादी बहुत महत्त्वपूर्ण है (b) किसी भी इंसान को समझने के लिए उसके जीवनकाल को समझना चाहिए, किसी एक point पर उसके विचारों का छीछालेदर करके उसपर निर्णय देना गलत होता है| अगर 16 अक्टूबर 1935 के दोपहर चार बजे चाय पीते हुए यदि गांधी ने बोल दिया कि "देसी चाय में fun नहीं आया", तो उनके उस स्टेटमेंट को बार बार दिखा कर उन्हें libtard बताना सही नहीं होगा| इससे पहले कि आप मेरा स्क्रीनशॉट दिखाएं मैं फिर से बता देता हूँ कि ये स्क्रीनशॉट वाली कई analysis मैंने भी की है, और वो उचित नहीं है| 

Rhetoric उछालने वाले टाइम में कमरे में आराम से बैठ कर ज्ञान देना आसान होता है| आपके पास भर भर के लाइक्स आ जाते हैं, आपके खेमे में वाह वाही का ताता लग जाता है, फिर आपके विरोधी खेमे के लोग बैठ कर आपकी गलती निकालते हैं, और ये चलते जाता है| समस्या वही की वही पड़ी रह जाती है, उसका समाधान नहीं होता| 

जब एक बच्चा पहली बार "यदि मैं प्रधानमंत्री होता" पर निबंध लिखता है, तो ये लिखता है कि मैं देश से दुःख और दर्द ख़त्म कर देता, जुर्म और भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ कदम उठाता, स्कूल और कॉलेज बनवाता, हॉस्पिटल और स्टेडियम खुलवाता...हालाँकि बचपन में लिखे गए "यदि मैं प्रधानमंत्री होता" वाले निबंध में अव्यभारिकता और अपरिपक्वता दिख जाती है, लेकिन साथ ही साथ उसमें सरलता और ईमानदारी भी होती है|

स्क्रीनशॉट वाले टाइम में अपने आप से ईमानदार होकर लिखना थोड़ा मुश्किल हो गया है| दुःख, दर्द, भ्रष्टाचार या जुर्म पर लिखने से पहले ये देखना ज़रूरी हो गया है कि आपका लिखा हुआ आपके ग्रुप को ठेस ना पहुंचा दे| ऐसा किया तो चार साल पहले आपने कुछ लिखा था और आज कुछ और लिख रहे हैं वाले "before" और "after" स्क्रीनशॉट दनादन छपने लगेंगे| 

मुद्दों पर निजी राय देने से पहले ये देखना ज़रूरी है कि आप जिस पार्टी को अक्सर समर्थन देते हैं उसने क्या कहा है|  

एक गरीब रिक्शावाला ATM के सामने लगी भीड़ में कराह रहा हो, और कोई उसे ये ज्ञान दे रहा हो कि "कश्मीर में सैनिक इतनी ठण्ड में खड़े होते हैं, तुम ATM के सामने खड़े नहीं हो सकते", तो ये मूर्खता है और ये गलत भी है| लेकिन ऐसे मूर्खों पर ऊँगली उठाने से पहले ये देख लीजिये कि कहीं वो आपके राजनीतिक आइडियोलॉजी वाला तो नहीं, अन्यथा आपको  liberal, turncoat या opportunist बनते समय नहीं लगेगा|  

Thursday, April 06, 2017

आख़िर जनता अपनी औकात क्यों भूल जाती है?

एयर इंडिया वाले हादसे के बाद मेरी नज़र में संजय राउत जी के लिए इज़्ज़त और भी बढ़ गयी है। पूरी घटनाक्रम में जहाँ लोग गोल गोल बातें कर रहे हैं, वहां संजय जी ही एक इंसान हैं जिन्होंने तो टूक में सत्य बोल दिया। राजनीति में सत्य सुनने के लिए अमूमन कान तरस जाते हैं, पर ये संजय जी का बड़प्पन कहिये कि उन्होंने स्पष्ट पूछ लिया, "आखिर एयर इंडिया क्या है? कौन है इसका सीएमडी? क्या है उनकी औकात?"





इसे भारत का दुर्भाग्य समझिये कि एक दिन वोटिंग मशीन पर अंगूठा दबाकर और स्याही वाली ऊँगली की तसवीरें फेसबुक पर डालकर देश की आम जनता अक्सर ये भूल जाती है कि उसकी औकात क्या है| अच्छी बात ये है कि समय समय पर प्रजातंत्र में ऐसे संदेशवाहक अवतरित होते है जो यूटोपिया में भटके हुए मानवों को उनकी औकात याद दिला देते हैं।  

माननीय गायकवाड़ जी ने चप्पल ही तो मारा था, इसमें इतना बवाल करने की क्या ज़रुरत थी। इस बात को "इतना तो चलता है" बोलकर टाला भी तो जा सकता था ना? वैसे ही जैसे जब टोल बूथ पर जब निहत्थे कर्मचारी को नेता थप्पड़ मार देता है या जब सड़क पर चलती हुई लड़की पर कुछ मनचले लोग हमारे सामने भद्दी टिप्पणी करते हुए चले जाते हैं या जब सड़क पर किसी बेक़सूर को मार खाता हुआ देख हम बोल देते हैं "इतना तो चलता है" लोगों का खून खौलता हुआ देख कर आश्चर्य भी होता है। जब देश की सबसे बड़ी पार्टी (भारतीय जनता पार्टी), जिसे इतना महान बहुमत मिला है वो इस मुद्दे पर शांत है तो ये तुच्छ लोग इतना खून क्यों खौला रहे हैं| 

भारतीय जनता पार्टी की सबसे अच्छी बात ये है कि वो कांग्रेस की तरह मौकापरस्त नहीं है| कांग्रेसियों को लगा कि एयर इंडिया वालों को ही ज़िम्मेदार और ग़लत बता कर कुछ राजनीतिक brownie point उठा ले, तो उन्होंने वो किया। हर तरफ से हारे इंसान को जहाँ भी रास्ता दिखता है, वहां मुह मार लेता है| यही हाल कांग्रेस का है। भारतीय जनता पार्टी ने ऐसा कुछ नहीं किया| देश की सबसे बड़ी पार्टी ने मौन धारण कर लिया और यूनानी  तरह ये मान लिया कि समय आने पर सब ठीक हो जायेगा| इक्का दुक्का नेताओं ने धृतराष्ट की तरह ये बोल दिया कि ये सही नहीं था, एक सांसद को ये शोभा नहीं देता। 

हम बीजेपी की मजबूरी समझ सकते हैं| उन्हें राज्य सभा में बहुमत चाहिए, उन्हें राष्ट्रपति चुनना है, उन्हें डिप्लोमेसी भी बनाये रखना है। अब इसमें एक दो लोग चप्पल खा ले तो क्या गलत है? इतना तो चलता है|  

संजय राउत जी ने एक अच्छा वाला चुटकुला भी सुनाया था| उन्होंने कहा कि एयर इंडिया वाले जनता के सेवक हैं, उन्हें औकात पर रहना चाहिए| मैं भूल गया था कि इलेक्शन के समय ये लोग भी अपने आप को जनता का सेवक ही बोलते हैं, जिसका मतलब ये है कि इन्हे भी...   

अब दिमाग को ज्यादा मत दौड़ाइए। औकात में रहिये!

तुम्हारे दीदार से मुक़म्मल होती थी वो कवितायेँ  जो आज कल अधूरी-अधूरी ही ख़त्म हो जाती हैं.