Monday, July 02, 2012

तकदीर


आपने हुज़ूर
बतला दिया, जतला दिया कि
मैं महज़ वक़्त की दीवार में
इक बेहूदा दरार हूँ;
इस बड़बोली आवाम का,
लड़खड़ाती, बुदबुदाती जहान का
इक बड़बोला विकार हूँ;

आपने सुलझा दिया वो तिलिस्म,
कि नौकरी, नौकरों कि ज़ागीर नहीं होती;
आपने समझा दिया कि,
गुलाम के गुल्लक में
कौड़ी होते हैं..बस
गुलामों की अशर्फियों वाली,
तकदीर नहीं होती

No comments:

ये "हम लोग" वाले लोग जब inert या blind हो जाते हैं तो स्थिति बहुत डरावनी हो जाती है|

एक और 15 अगस्त आने वाला है| बहुत कुछ वैसा ही होगा, जैसा हर साल होता है| Facebook और twitter पर profile picture बदल दिए जाएंगे; whatsapp पर ...