Monday, July 02, 2012

इंसान बनते हैं;


बह चूकी नदियाँ शराबी
धूल गयीं बातें किताबी
अब छोड़ कर, बातें गुलाबी
इंसान बनते हैं;
खण्डहर सा रात भर बैठा रहा परिवार मेरा;
अब शमशान वाली जिद्द हटाकर
मकान बनते हैं.
दरिंदो जैसे चीखकर, नोचकर
क्या मिला है - मुझको, तुमको?
नशे वाली रात काली,
इस रात से अब अनजान बनते हैं
अपने लिए, अपना ही
सम्मान बनते हैं

अब छोड़ कर, बातें गुलाबी
इंसान बनते हैं;

No comments:

इतने संस्कार का अचार डालोगे क्या?

आप एक दिन अपनी गाडी लेकर सड़क पर जा रहे हैं; कुछ लोग आकर आपको ताना मारते हैं, कुछ गाली देते हैं और कुछ लोग आपके कार को तोड़ फोड़ देते हैं, बाद...