Sunday, May 17, 2009

जिदद




















खण्डहर
के सख्त टूटे जिस्म में,
उस कोने में,
गर्द की परतों के निचे,
एक चिराग़ दफ़न था;
उसके अरमानों की नब्ज,
ख़यालों के कश्मकश में दम तोड़ने लगी थी।

तुम्हारी फूँक ने शायद,
चिराग़ में रौशनी डाल दी है।

अब,
खण्डहर
की जिदद है कि,
तुम्हारा एहसास
पुराने किस्सों की तरह,
ख्वाइशों के जिन्न को जगा सकता है।

4 comments:

venus kesari said...

दिल को छूती चन्द लाइने जिनको पढ कर सुकून मिला
वीनस केसरी

VaRtIkA said...

awesome..... i simply loved it.........:)

ये किसका जादू है जो यूँ नज़्म बन बिखर रहा है .... :)

anuj-life said...

tumhare fukh ne iss chirag mein roshene to daal de...par ..par..iss chirag ke sammha ko jalaye rakhne vala teil kha se aayega..

Abhilasha said...

i don't understant lots of hindi .... but really loved this one

ये "हम लोग" वाले लोग जब inert या blind हो जाते हैं तो स्थिति बहुत डरावनी हो जाती है|

एक और 15 अगस्त आने वाला है| बहुत कुछ वैसा ही होगा, जैसा हर साल होता है| Facebook और twitter पर profile picture बदल दिए जाएंगे; whatsapp पर ...