Monday, December 24, 2007

छोड़ दो मुझे, कभी तो सांस लेने दो

शाम है ढल गयी, चुपचाप सोने दो,
घुट रहा हूँ मैं, कुछ शब्द कहने को,
छोड़ दो मुझे, कभी तो सांस लेने दो....

चप्पे चप्पे पर तुम्हारी जाल लिपटी है,
आसमा से ज़मीन तक, हर सोच चिपटी है
कोनों में , दीवारों में बस झाक लेने दो,
छोड़ दो मुझे, कभी तो सांस लेने दो...

शाम है ढल गयी, चुपचाप सोने दो,
सूख गयीं आँखे, कभी तनहा रोने को,
घुट रहा हूँ मैं,
अब सांस लेने को,
छोड़ दो मुझे, कभी तो सांस लेने दो
छोड़ दो मुझे, कभी तो सांस लेने दो

1 comment:

VaRtIkA said...

"चप्पे चप्पे पर तुम्हारी जाल लिपटी है,
आसमा से ज़मीन तक, हर सोच चिपटी है
कोनों में , दीवारों में बस झाक लेने दो,"

बहुत खूब..........

तुम्हारे दीदार से मुक़म्मल होती थी वो कवितायेँ  जो आज कल अधूरी-अधूरी ही ख़त्म हो जाती हैं.