Thursday, August 09, 2012

Gangs of Wasseypur 2

नंगे पांव घुमने की ख्वाइश रखने वाला फैज़ल, चुतियापे में आकर, ख़ून से सना जूता पहन ही लेता है 
दुनिया का आख़िरी सत्य existence and conservation of चुतियापा है.  Gangs of Wasseypur starts with the platonic dream of a family concerned about ''इक बगल में चाँद होगा एक बगल में रोटियां" and concludes with same question. 5 दशक के उठा-पटक और eternal struggle के बाद वासेपुर में आखिरकार बस चूतिये ही बच पाते हैं.


Puffed between smokes of चिलम and Bullets, the movie continues to entertain with diversified characters, having varied reasons for their self existences. GOW 2 emphasizes the impact of cinema on various nukkads of our lives. नब्बे के दशक के बाद इंडिया में हर massive चुतियापा का 3 ही reason रहा है Politics, Sex and Cinema. GOW 2 ने बारीकी इसे document किया है.

Love-Hate relationship of a father's identity and his son's respect for him is depicted through one of the nicest scripts.The movie revolves around Faizal Khan and his desires to exist in his parallel universe. फैज़ल गले में रुमाल बांधकर अमिताभ बच्चन बनना चाहता था. फैज़ल के लिए सेक्स और धुआं ही उसके purest wild emotions थें. माँ को बुढ़िया, भाई को तोतला, बाप को संजीव कुमार बोलने वाला फैज़ल, उनके लिए उतना ही emotional था, जितना किसी को गोली मरने पर unemotional रहता थाGOW 2 is struggle for establishing an equilibrium between peace and vengeance. 

Kashyap has maintained a continuous flow with brilliant acting of mathematical (Tangent, Perpendicular, Definite) and non-mathematical (Ramadhir Singh, Sultan, etc) characters. Music and Lyrics are again treat to ears. There are plenty of witty scenes, bloodshed, moments of trust and deceptions.

Too much can be written about the movie. Its better to go and experience it through own perspectives.

No comments:

इश्क़ मुहब्बत वाला लौंडा जब झंडा लेकर घूमने लगा

2012 के मई की चिलचिलाती गर्मी चीटियों की तरह शरीर पर चुभ रही थी| ज़मीन एक एक क़तरा पानी के लिए ललचाये निग़ाहों से आसमान की तरफ़ ताक रहा था, लेक...