Friday, August 17, 2012

मुझको ऐसा ख्वाब चाहिए


मुझे जवाब चाहिए,
मुझे इंक़लाब चाहिए
रात को sensational news
चने के साथ शराब चाहिए

मुझे ख़िताब चाहिए
मुझे आदाब चाहिए
छिप कर करता रहूँ ज़ुर्म
मुझको ऐसा नक़ाब चाहिए

तुम्हारा कौम, मेरा धर्म
मुझे चेहरों तक का हिसाब चाहिए
धुंए से ढका शहर,
जलकर राख़ हो जाये
मुझको ऐसा ख्वाब चाहिए

क्या मुझको ऐसा ख्वाब चाहिए?

No comments:

इश्क़ मुहब्बत वाला लौंडा जब झंडा लेकर घूमने लगा

2012 के मई की चिलचिलाती गर्मी चीटियों की तरह शरीर पर चुभ रही थी| ज़मीन एक एक क़तरा पानी के लिए ललचाये निग़ाहों से आसमान की तरफ़ ताक रहा था, लेक...