Tuesday, February 24, 2009

चौकड़ी

I was trying to experiment with style of poems. It came in my mind to design 4 liner poem, where the first three lines will define same object through different subjects (Science, Arts, Maths..). The last one will be philosophical end to these. I thought to call it "चौकड़ी".

example - चाँद

खरबों किलोमीटर दूर होगा कोई मुझसे,
मेरे बेटे के खिलोने जैसा दिखता है वो,
फिर भी पूजती हूँ उसे, नत् होती हूँ,

खुद से ऊपर बैठा हर कोई बड़ा ही होता है.

By- वर्तिका

Wallet

So many murders for leather to preserve fate,

Handy, trendy, branded, I prefer it for my date,

My wallet is wet in tears, have recession in its eyes,


We shrink our life as we grow up in size.




Try your hands....

इश्क़ मुहब्बत वाला लौंडा जब झंडा लेकर घूमने लगा

2012 के मई की चिलचिलाती गर्मी चीटियों की तरह शरीर पर चुभ रही थी| ज़मीन एक एक क़तरा पानी के लिए ललचाये निग़ाहों से आसमान की तरफ़ ताक रहा था, लेक...