Monday, November 12, 2007

I smoked ."no smoking"

When the nights got stormy,
dictionary over my table wobbled,
I peeped through it ,
for appropriate words..
alas ,have not got them yet.

I stumbled over text and pages,
pondered of joy and rages,
the fags and smoke are left,
my thirst is yet to quench..

No comments:

इतने संस्कार का अचार डालोगे क्या?

आप एक दिन अपनी गाडी लेकर सड़क पर जा रहे हैं; कुछ लोग आकर आपको ताना मारते हैं, कुछ गाली देते हैं और कुछ लोग आपके कार को तोड़ फोड़ देते हैं, बाद...