Thursday, June 07, 2012

Twinkle Twinkle little star

Twinkle Twinkle little star
education गया भाड़ में, 
डाल दिया आचार

पैसा ही दोस्ती, पैसा ही प्यार
someone asked me reasons 
who the fuck you are?

Humpty Dumpty sat on a wall 
Imagination की माँ का...
बंद करो ये बबाल

काहे का poem, काहे का ताल
Share some dirty jokes
I will say lol

Baba black sheep have you any wool
रटते रहो syllabus,
बेटा ...वही है school

Engineering करो, फिर finance पढो
did you say passion ?
Are you a fool

Twinkle Twinkle little star
education गया भाड़ में,
डाल दिया आचार

धर्म , आत्मा, मसीहा

धर्म  


आपके और मेरे भगवान् में इतना फ़रक क्यूँ है?
धर्म और जाति की हमें इतनी ठरक क्यूँ है ?
आपने स्वर्ग की तमन्ना में ग्रन्थ तो लिख दिया,
'उसके' लिए सजाया सबकुछ नरक क्यूँ है?


आत्मा


आत्माएं नहीं मरती हैं, ज़मीर को भी मत मारिये
इक दिन शांति फैलेगी, इतनी जल्दी मत हारिये 

मिटटी घड़े बनाती है, कीचड़ पर पत्थर मत मारिये
सब सुधरेगा जग सुधरेगा, अपनी गलती भी सुधारिये 



मसीहा

नमक मिरच लगाकर ख़बर छौंक आते हैं
इक बड़ा झूंड बनाकर तनिक भौंक आते हैं
मसीहों को दामन में ज़िल्लत ही मिला है 
किसी बेबस-बेसहारा को यूँ ही हौंक आते हैं 

तुम्हारे दीदार से मुक़म्मल होती थी वो कवितायेँ  जो आज कल अधूरी-अधूरी ही ख़त्म हो जाती हैं.