Saturday, August 29, 2009

स्वार्थी

उस रात,
गोद में उठाकर,
अपने बच्चे से अटपटी बातें करती माँ की आँखों में,
शायद,
मैंने वैसा ही कुछ देखा था,
जैसा आज,
चाय की चुस्कियों के संग,
अपने पुरानी यादों पर खिलखिलाते,
और,
बचे खुचे दांतों के बीच,
मोर की तरह फडफडाते
उस बुजुर्ग के होठो में देखा होगा।

हर बार,
निस्वार्थ बहते
इन झरनों को,
मैं अपनी कल्पनाओ में कैद करना चाहता हूँ;
और हर बार,
ऐसा करते ही,
मैं थोड़ा और स्वार्थी बन जाता हूँ।

4 comments:

amaresh's oeuvre said...

LAST PARA WAS NICE...
I COULDNT GET THE LINK BETWEEN 1ST PARA AND LAST PARA...

VIKASH GAUTAM said...

I liked it..And yea its true also...being selfish to the nature of avoiding selfishness....

Yayaver said...

behtareen abhivyakti rahul. paloon ko yaadon mein kaid karne ki kosis hai yeh.. lajawaab kar dete hai

anand said...

sir jee tussi g8 hoooooo.......................

इतने संस्कार का अचार डालोगे क्या?

आप एक दिन अपनी गाडी लेकर सड़क पर जा रहे हैं; कुछ लोग आकर आपको ताना मारते हैं, कुछ गाली देते हैं और कुछ लोग आपके कार को तोड़ फोड़ देते हैं, बाद...